Tag Archives: Teri Mohabbat

मचलती शाम की दहलीज़

मचलती शाम की दहलीज़ पर तेरा साया नज़र आया था,
तेरे गेसु की छांव या तेरी मोहब्बत की प्यास ने हमें बहोत तड़पाया था |

Scroll To Top