सही फ़रमाते हो

सही फ़रमाते हो- अब इश्क़ से कोई मतलब न रहा,
ये बात-बात पे ज़िक्र यार का, ये इशारा है किस बात का?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top