रोयी हैं आखें

royi hain aakheiN raat bhar
sisakti saanson ke darmiyan
itne faasle honge ik hi kamre mein
jaise koi band baksey mein ghutan ki tarah

रोयी हैं आखें रात भर,
सिसकती साँसों के दरमियाँ
इतने फासले होंगे इक ही कमरे में
जैसे कोई बंद बक्से में घुटन की तरह |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top