कभी ख़्वाबों में

kabhi khwabo mein hogi ik sukooN ki mulaqaat
jab tum mil jaoge to kuchh inaayat hogi…

कभी ख़्वाबों में होगी इक सुकूँ की मुलाक़ात
जब तुम मिल जाओगे तो कुछ इनायत होगी…

पुरानी गली

wo manzar na hua kabhi
ki hum miley kisi qiley mein
chori-chori sabse bachte
na rukte nange per, teri aagosh mein
na thamti sulagti dhadkaney tere honay se
yuN qareeb aakar
mehka ke dhero mohabbato ke pal
yuN gumnaam se huey tum
kisi purani gali mein.

वो मंज़र न हुआ कभी
कि हम मिले किसी क़िले में
चोरी-चोरी, सबसे बचते
न रुकते नंगे पैर, तेरी आगोश में
न थमती सुलगती धड़कने, तेरे होने से
यूँ क़रीब आकर
महका के ढेरो मोहब्बतों के पल
यूँ गुमनाम से हुए तुम
किसी पुरानी गली में |

रोयी हैं आखें

royi hain aakheiN raat bhar
sisakti saanson ke darmiyan
itne faasle honge ik hi kamre mein
jaise koi band baksey mein ghutan ki tarah

रोयी हैं आखें रात भर,
सिसकती साँसों के दरमियाँ
इतने फासले होंगे इक ही कमरे में
जैसे कोई बंद बक्से में घुटन की तरह |

तुम हम रहे ख़फ़ा

tum hum rahe khafa,
sadiyaN beet gayi,
kisi aur ke liye ashiyaaN duba liya
ab to laut aao, main ja rahi hoon

तुम हम रहे ख़फ़ा,
सदियाँ बीत गयी,
किसी और के लिये आशियाँ डूबा लिया
अब तो लौट आओ, मैं जा रही हूँ

Scroll To Top