ख़्वाहिशों की चाबी

khwahisho ki chaabi kho gayi mujhse
umeedeN benaam si door kho gayi mujhse


ख़्वाहिशों
की चाबी खो गयी मुझसे
उमीदें बेनाम सी दूर खो गयी मुझसे |

किसी को मौहब्बत की रात

kisi ko mohabbat ki raat mubarak
kisi ko ibaadat ki raat mubarak
kisi ke sapno mein jagti raat mubarak
sab apni apni raat mein khush rahein- Ameen!

किसी को मौहब्बत की रात मुबारक
किसी को इबादत की रात मुबारक
किसी के सपनो में जागती रात मुबारक
सब अपनी अपनी रात में ख़ुश रहें- आमीन!

ख़्वाबो की ताबीर

khwaabo ki tabeer kuchh hui yoon
tumne jiney ka maksad kiya poora

ख़्वाबो की ताबीर कुछ हुई यूं
तुमने जीने का मकसद किया पूरा |

कैसे फिसलती चली गयी

kaise fisalti chali gayi ye umra haatho se
ret thi, pani tha, kuch samajh nahi paya.

कैसे फिसलती चली गयी ये उम्र हाथो से
रेत थी, पानी था, कुछ समझ नहीं पाया |

कहा हो

kaha ho sab mehfilo ke yaaroN
Jis duniya mein jatey ho rang badal dete ho

कहा हो सब महफ़िलो के यारो
जिस दुनिया में जाते हो रंग बदल देते हो

Scroll To Top