क्यों किसी को…

क्यों किसी को इतना चाहे दिल,
कि चाह कर भी उसे न छोड़ पाये दिल |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top