कुछ हुआ था

कुछ हुआ था, पर न जाने क्यूँ न पता चला,
कही ये तेरा साया तो नहीं, जो मेरी रूह से जुड़ गया?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top