क़ाश! हर पल मैं

क़ाश! हर पल मैं खुद तह कर लेता,
क़िस्मत ग़र, खुद ने न लिखी होती मेरी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top