जब खिलती सुबहा

जब खिलती सुबहा मुस्कुरा देती है,
तब मैं भी ज़िन्दगी को तस्लीम करता हूँ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top