चाह थी मेरी उड़ान की

चाह थी मेरी उड़ान की इस जहाँ में,
पर आँखे सूखी थी मेरी, मैं रोया था इस क़दर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top