Category Archives: Urdu Poetry

कुछ यूँ होता

kuchh yuN hota
ki bas hum hotey
aur samaa hota
wo bhi kya waqt hota
jo sirf tujhse juda hota

कुछ यूँ होता
कि बस हम होते
और समा होता
वो भी क्या वक़्त होता
जो सिर्फ तुझसे जुड़ा होता

तुम आओगे

tum aaoge
yakeeN hai mujhe
phir se ik bar
ye zindagi ji uthegi
khwabo mein mehkti
khwahishe chehakti
hasratey be-intehaaN
tujhme doobi
meri rooh!
intezaar kar rahi hai…

तुम आओगे
यकीं है मुझे
फिर से इक बार
ये ज़िंदगी जी उठेगी
ख्वाबों में महकती
ख्वाहिशें चहकती
हसरते बे-इन्तेहाँ
तुझमे डूबी
मेरी रूह!
इंतज़ार कर रही है…

किसी को मौहब्बत की रात

kisi ko mohabbat ki raat mubarak
kisi ko ibaadat ki raat mubarak
kisi ke sapno mein jagti raat mubarak
sab apni apni raat mein khush rahein- Ameen!

किसी को मौहब्बत की रात मुबारक
किसी को इबादत की रात मुबारक
किसी के सपनो में जागती रात मुबारक
सब अपनी अपनी रात में ख़ुश रहें- आमीन!

ख़्वाबो की ताबीर

khwaabo ki tabeer kuchh hui yoon
tumne jiney ka maksad kiya poora

ख़्वाबो की ताबीर कुछ हुई यूं
तुमने जीने का मकसद किया पूरा |

दफ़्न ख़ुद ही…

Dafn khud hi, mohabbat ki hai tumne
na hoga ab koi ilzaam mere sar

दफ़्न ख़ुद ही, मोहब्बत की है तुमने
न होगा अब कोई इलज़ाम मेरे सर |

Scroll To Top