Category Archives: Sad Poetry

उम्र भर माँ हमारी

umra bhar maa humari sehti rehti hai
dil mein hazaar mushqiley samete rehti hai

janm se maran tak har subha ki dhoop ke saath
aur raat mein chaand ki chandni si maa, mere qareeb rehti hai

उम्र भर माँ हमारी सहती रहती है
दिल में हज़ार मुश्किलें और राज़ समेटे रहती है

जन्म से मरण तक हर सुबह की धूप के साथ
और रात में चाँद की चांदनी सी माँ, मेरे करीब रहती है

तेरी रुस्वाइयां हज़ार

teri rusvayiaN hazaar,
mera pyaar be-shumaar,
haathoN mein liye toota dil,
maine khud ko qtaaroN mein paya hai.

तेरी रुस्वाइयां हज़ार,
मेरा प्यार बे-शुमार,
हाथों में लिए टूटा दिल,
मैंने ख़ुद को क़तारों में पाया है |

मुझे डर है

*Mujhe darr hai*

ye be-matlab ki baat aur jhagda-
kahi humein door na le jaye,
mujhe darr hai…

tum roz thukrate ho mujhe,
kahi ye rishta toott na jaye-
mujhe darr hai…

Dariya ke shor mein lehre hi sehti hain-
main samundar bhi hota, sirf sehta,
mujhe darr hai…

aasma mein chikhta main-
dard byaaN karta, chillata, koi sunn na le,
mujhe darr hai…

mujhe darr hai, mujhe darr hai-
ki ab main jina nahi chahta,
mujhe darr hai…

*मुझे डर है*

ये बे-मतलब की बात और झगड़ा –
कही हमें दूर न ले जाये,
मुझे डर है…

तुम रोज़ ठुकराते हो मुझे,
कहीं ये रिश्ता टूट न जाये-
मुझे डर है…

दरिया के शोर में लहरें ही सहती हैं-
मैं समुन्दर भी होता, सिर्फ सहता,
मुझे डर है…

आसमां में चीखता मैं-
दर्द ब्याँ करता, चिल्लाता, कोई सुन न ले,
मुझे डर है…

मुझे डर है, मुझे डर है-
कि अब मैं जीना नहीं चाहता,
मुझे डर है…

Scroll To Top