Category Archives: Sad Poetry

माँ के आँसुओं में

maa ke aasuoN mein, main beh gaya is taraah
jaise ik gehre dariya mein ik benaam sa tinka

माँ के आँसुओं में, मैं बह गया इस तरहा
जैसे इक गहरे दरिया में इक बेनाम सा तिनका

रोयी हैं आखें

royi hain aakheiN raat bhar
sisakti saanson ke darmiyan
itne faasle honge ik hi kamre mein
jaise koi band baksey mein ghutan ki tarah

रोयी हैं आखें रात भर,
सिसकती साँसों के दरमियाँ
इतने फासले होंगे इक ही कमरे में
जैसे कोई बंद बक्से में घुटन की तरह |

तेरे होने से ही

tere hone se hi dil dhadakta tha, samaa bandhta tha
tum gaye yun, rooth gaye sab khushi ke pal mujhse….

तेरे होने से ही दिल धड़कता था, समा बंधता था
तुम गये यूँ, रूठ गये सब ख़ुशी के पल मुझसे….

Scroll To Top