Category Archives: Romance

पुरानी गली

wo manzar na hua kabhi
ki hum miley kisi qiley mein
chori-chori sabse bachte
na rukte nange per, teri aagosh mein
na thamti sulagti dhadkaney tere honay se
yuN qareeb aakar
mehka ke dhero mohabbato ke pal
yuN gumnaam se huey tum
kisi purani gali mein.

वो मंज़र न हुआ कभी
कि हम मिले किसी क़िले में
चोरी-चोरी, सबसे बचते
न रुकते नंगे पैर, तेरी आगोश में
न थमती सुलगती धड़कने, तेरे होने से
यूँ क़रीब आकर
महका के ढेरो मोहब्बतों के पल
यूँ गुमनाम से हुए तुम
किसी पुरानी गली में |

हवाओं में घुलता

Hawao mein ghulta teri nazar ka nasha
tumhe dekh dekh humne hazaar aahein bhar di..

हवाओं में घुलता तेरी नज़र का नशा
तुम्हे
देखदेख हमने हज़ार आहें भर दी..

सरगोशियों का नशा

sargoshiyoN ka nasha ya tere ishq mein bheega samaN
kuchh is tarah hai – ki na din dhaley, na raat jaaye….

सरगोशियों का नशा या तेरे इश्क़ में भीगा समां
कुछ इस तराह है – कि  दिन ढले, रात जाये….

तेरी ख़ुश्बू में भीगी शाम

teri khushboo mein bheegi shaam,
ya os mein namm beeti raat,
khwahisho mein khilkhilati dhoop,
aur fir ik nayi shaam, tere saath,
fir kuchh naye haseen lamhaat.

तेरी ख़ुश्बू में भीगी शाम,
या ओस में नम बीती रात,
ख़्वाहिशों में खिलखिलाती धूप,
और फिर इक नयी शाम, तेरे साथ,
फिर कुछ नये हसीं लम्हात |

दीवानगी क्या थी

Deewaangi kya thi,
dil jawaN tha bas,
kuchh machalti si aas,
kuchh gudgudati si teri hasi…

दीवानगी क्या थी,
दिल जवां था बस,
कुछ मचलती सी आस,
कुछ गुदगुदाती सी तेरी हँसी…

Scroll To Top