अजीब सी थी वो घड़ी

ajeeb si thi wo ghadi,
aur aaj bhi kuchh ajeeb hai,
tu nahi to kya hua,
meri yaadon mein mere kareeb hai…

अजीब सी थी वो घड़ी,
और आज भी कुछ अजीब है,
तू नहीं तो क्या हुआ,
मेरी यादों में मेरे क़रीब है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top